BREAKING NEWS

पेट्रोल-डीजल के बाद अब दूध के दाम छुएंगे आसमान, 12 रुपए प्रति लीटर की होगी बढ़ोत्तरी

जहां एक तरफ देश में पट्रोल-डीजल और रसोई गैस के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी से आमजन परेशान है और ये महंगाई उसकी जेब सीधे तौर पर असर डाल रही है वहीं अब दूध की कीमतों में बढ़ोत्तरी की ख़बरों ने और अधिक चिंता बढ़ा दी है।
  • Bhupendra Singh Chauhan

  • Published:24-02-2021 16:27:37
  • राज्य

जहां एक तरफ देश में पट्रोल-डीजल और रसोई गैस के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी से आमजन परेशान है और ये महंगाई उसकी जेब में सीधे तौर पर असर डाल रही है वहीं अब दूध की कीमतों में बढ़ोत्तरी की ख़बरों ने और अधिक चिंता बढ़ा दी है। यह चिंता इसलिए और बढ़ जाती है क्योंकि दूध की कीमतों में एक दो रूपए नहीं बल्कि सीधे 12 रुपए प्रति लीटर तक के बढ़ोत्तरी होने की ख़बरें हैं। या यूं कहें कि होने जा रही है।



दरअसल मध्य प्रदेश के रतलाम शहर के 25 गांवों के दूध उत्पादकों ने पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस व् सब्जियों की कीमतों में बढ़ोत्तरी को लेकर क्षेत्र के कालिका माता मंदिर में बैठक आयोजित की। इस बैठक में उनके द्वारा दूध  की कीमतों को भी बढ़ाने पर विचार विमर्श हुआ। जिसके बाद 1 मार्च से दूध की कीमतों को 55 रुपए लीटर करने का निर्णय लिया गया।



इसके पीछे दुग्ध उत्पादकों का कहना है कि, पेट्रोलियम की कीमतें बढ़ने से परिवहन शुल्क और पशुओं  पर बढ़ोत्तरी हो गई है। यदि दूध की कीमतों में बढ़ोत्तरी की अनुमति नहीं दी गई तो वे आपूर्ति बंद कर देंगे। बता दें यहां पर अभी दूध की कीमतें 43 रुपए लीटर हैं। यदि यह बढ़ोत्तरी होती है तो सीधे तौर पर प्रति लीटर 12 रुपए  की बढ़ोत्तरी हो जाएगी, जो आम आदमी को और परेशान करने वाली हो सकती हैं।   



रतलाम दुग्ध उत्पादक संघ के अध्यक्ष हीरालाल चौधरी के मुताबिक, 25 गांवों के दुग्ध उत्पादकों ने मंगलवार को बैठक की। हमारी मांग दूध की कीमत बढ़ाने की है। पिछले वर्ष, कोरोनो वायरस के कारण दूध के दाम नहीं बढ़े थे, लेकिन अब पेट्रोल और डीजल की कीमतों के साथ-साथ चारे की कीमत भी बढ़ गई है। अभी दूध उत्पादकों द्वारा कीमत 43 रुपये प्रति लीटर है, इसलिए हमने दूध की कीमत 55 रुपये प्रति लीटर बढ़ाने का फैसला किया है।




नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें