-
BREAKING NEWS

बीजापुर नक्सली हमले में 22 जवान शहीद, 31 घायल जवानों का चल रहा इलाज

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो गए हैं। आज सुबह से चल रहे सर्च अभियान के दौरान 4 शहीद जवानों के शव सुबह पाए गए थे, आगे सर्च अभियान में 18 जवानों के शव फिर मिले हैं।
  • Bhupendra Singh Chauhan

  • Published:04-04-2021 13:36:35
  • राज्य

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो गए हैं। आज सुबह से चल रहे सर्च अभियान के दौरान 4 शहीद जवानों के शव सुबह पाए गए थे, आगे सर्च अभियान में 18 जवानों के शव फिर मिले हैं। इस हमले में अब तक 22 जवान शहीद हो गए, जबकि कई घायल हैं। जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। जवानों ने इस मुठभेड़ में 15 नक्सलियों को मार गिराया है। 




जानकारी के अनुसार, सुरक्षाबलों को जोनागुड़ा की पहाड़ियों पर नक्सलियों के डेरा जमाने की सूचना मिली थी। जिस पर कार्रवाई के लिए जवान वहां पहुंचे थे। छत्तीसगढ़ के नक्सल विरोधी अभियान के पुलिस उप महानिरीक्षक ओपी पाल ने जानकारी देते हुए बताया कि, शुक्रवार की रात बीजापुर और सुकमा जिले से CRPF के कोबरा बटालियन, DRG और STF के संयुक्त दल को नक्सल विरोधी अभियान के तहत दो हजार जवानों को रवाना किया गया था। 






उन्होंने आगे बताया कि, शनिवार को नक्सलियों ने 700 जवानों को तर्रेम क्षेत्र में जोनागुड़ा पहाड़ियों के पास घेरकर तीन ओर से फायरिंग की थी। करीब तीन घंटे चली इस मुठभेड़ में 15 नक्सली ढेर हो गए। हमले में 22 जवान शहीद हो गए हैं, जबकि 31 से अधिक जवान घायल हैं। जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है।








सुरक्षाबलों के शहीद होने की खबर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गहरा दुःख व्यक्त किया है। पीएम ने ट्वीट कर लिखा कि, मेरी संवेदनाएं छत्तीसगढ़ में शहीद हुए जवानों के परिजनों के साथ है। वीर शहीदों के बलिदान को कभी नहीं भुलाया जा सकेगा। घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना है।




  



बताते चलें कि, छत्तीसगढ़ में 10 दिन के अंदर यह दूसरा नक्सली हमला है। इससे पहले 23 मार्च को हुए हमले में भी पांच जवान शहीद हुए थे। यह हमला नक्सलियों ने नारायणपुर में IED ब्लास्ट के जरिए किया गया था। तर्रेम थाने से सीआरपीएफ, डीआरजी, जिला पुलिस बल और कोबरा बटालियन के जवान संयुक्त रूप से सर्चिंग पर निकले थे। इसी दौरान दोपहर में सिलगेर के जंगल में घात लगाए नक्सलियों ने हमला कर दिया था। इस पर जवानों की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की गई।



नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें