-
BREAKING NEWS

लखनऊ : सरकार नहीं बता रही कोरोना से मौत के सही आंकड़े, जानें असलियत और आंकड़ों के बीच का खेल

जितने लोगों की जान कोरोना से जा रही है क्या वह आंकड़ा और सरकार जो आंकड़े दे रही है वह सही हैं। इन सरकारी आंकड़ों में और जलाए जा रहे शवों में अंतर आ रहा है जिसके कारण कई सारे सवाल खड़े हो रहे हैं। लखनऊ में बुधवार को कुल 98 शवों का अंतिम संस्कार किया गया लेकिन अगर सरकार की मानें तो कल पूरे यूपी में कोरोना से सिर्फ 68 मौतें ही हूई
  • Shivam Dixit

  • Published:15-04-2021 12:18:29
  • उत्तर प्रदेश

लखनऊ : कोरोना से लगातार हो रही मौतों से अब कोई भी अनजान नहीं है। शवों को जलाने से लेकर दफ़नाने तक के लिए भारी मशक्कत का सामना  करना पड़ रहा है। अब बात आती है कि  जितने लोगों की जान कोरोना से जान जा रही है क्या वह आंकड़ा और सरकार जो आंकड़े दे रही है वह सही हैं। इन सरकारी आंकड़ों में और जलाए  जा रहे शवों में अंतर आ रहा है जिसके कारण कई सारे सवाल खड़े हो रहे हैं। लखनऊ में बुधवार को कुल 98  शवों का अंतिम संस्कार किया गया लेकिन अगर सरकार की मानें तो  कल पूरे यूपी में कोरोना से सिर्फ 68 मौतें ही हूई। अब इसके बाद एक नहीं बहुत सारे सवाल खड़े होते हैं जिनके जवाब ही केवल असलियत और आंकड़ों के बीच का अन्तर बता सकते हैं।   

 


जानें नगर निगम ने कितने अंतिम संस्कार की पुष्टि की ? 

लखनऊ में अगर नगर निगम के आंकड़ों की मानें तो बुधवार को भैसाकुंड पर 61 कोरोना ग्रसितों का अंतिम संस्कार किया गया तो वहीं  गुलाला घाट पर 37 का अंतिम संस्कार किया गया। अगर इन दोनों को जोड़ा जाए तो कुल 98 अंतिम संस्कार हुए। सरकार द्वारा जारी किए  गए आंकड़ों से यह आंकड़ा बिलकुल नहीं मिलता सरकार ने अपने डाटा  में पूरे यूपी में सिर्फ 68 मौतें ही बताई हैं।   

 

 
बृहस्पतिवार को कितने अंतिम संस्कार हुए 

 


इन आंकड़ों के इतर भैंसाकुंड में खबर लिखे जाने तक कुल  24 शवों का अंतिम संस्कार किया गया। यह लोग कोरोना से संक्रमित थे हालांकि इनके अलावा  अभी की कई कोरोना कोविड संक्रमित लाशों का दाह संस्कार बाकी है।    

 
नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें