-
BREAKING NEWS

लखनऊ: ऑक्सीजन की कमी से दम तोड़ रहे लोग, अधिकारी गलत आंकड़ों से सरकार को कर रहे गुमराह 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है। मरीज इलाज के लिए दर-दर भटकने को मजबूर हैं। कोई अस्पताल में एक बेड के लिए जद्दोजहद कर रहा है तो कोई एक-एक सांस के लिए जूझ रहा है और उसे ऑक्सीजन नहीं मिल रही है।
  • Bhupendra Singh Chauhan

  • Published:02-05-2021 14:26:12
  • उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है। मरीज इलाज के लिए दर-दर भटकने को मजबूर हैं। कोई अस्पताल में एक बेड के लिए जद्दोजहद कर रहा है तो कोई एक-एक सांस के लिए जूझ रहा है और उसे ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। यही नहीं आवश्यक दवाओं की भी बाजार में भारी किल्लत है। जिसकी वजह से भी मरीज दम तोड़ने को मजबूर हैं।



छोटे-बड़े जिलों के अलावा राजधानी लखनऊ की बात करें तो यहां की स्थिति काफी बदहाल है। यहां ऑक्सीजन की कमी कम होने का नाम नहीं ले रही है। मरीज और उनके तीमारदार लगातार ऑक्सीजन के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं। सभी ऑक्सीजन प्लांटों पर लोगों की लंबी-लंबी कतारें लगी है। लोग पूरा-पूरा दिन इन्तजार कर रहे हैं, इसके बावजूद उन्हें ऑक्सीजन नहीं मिल रही है।



राजधानी के तालकटोरा स्थित ऑक्सीजन प्लांट पर जब भारत समाचार की टीम पहुंची तो वहां का नजारा देख रोंगटे खड़े हो गए। घरों में आइसोलेट मरीजों के लिए लोग निजी गाड़ियों से ऑक्सीजन लेने तो पहुंचे ही थे, साथ ही अस्पतालों में भर्ती मरीजों के लिए भी उनके तीमारदार ही ऑक्सीजन लेने पहुंचे थे। घंटों लाइन में लगने के बाद भी उन्हें निरास ही लौटना पड़ा यानी ऑक्सीजन नहीं मिल सकी।



बताते चलें कि, राजधानी में एक-एक सांस के लिए लिए लोग जूझ रहे हैं और अधिकारी लगातार सरकार तक गलत आंकड़े पहुंचाकर उसे गुमराह कर रहे हैं। और इसका नतीजा आमजनता को अपनी जान देकर भुगतना पड़ रहा है। घर में आइसोलेट मरीज जिंदा रहने के लिए एक-एक सांस के लिए संग्राम कर रहे हैं। यही नहीं उनके परिजन भी अपनों की जिंदगी बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।



नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें