केंद्र ने चेताया लॉकडाउन में ढील दे रही तीसरी लहर की दस्तक, 3T+V रणनीति पर काम करने को कहा

दैनिक मामलों के बाद अब कई राज्यों ने कोरोना प्रतिबंधों में ढील देना शुरू कर दिया है। लेकिन इसी बीच एम्स चीफ सहित कई एक्पर्ट्स यह कह चुके हैं कि भारत में कोरोना की तीसरी लहर टाली नहीं जा सकती है। लेकिन यह ढील कोरोना के तीसरी लहर को औइर घातक बनाने का सन्देश दे रही हैं।
     
  • कोरोना
देशभर में कोरोना के केस कम होते ही दैनिक मामलों के बाद अब कई राज्यों ने कोरोना प्रतिबंधों में ढील देना शुरू कर दिया है। लेकिन इसी बीच एम्स चीफ सहित कई एक्पर्ट्स यह कह चुके हैं कि भारत में कोरोना की तीसरी लहर टाली नहीं जा सकती है। लेकिन यह ढील कोरोना के तीसरी लहर को औइर घातक बनाने का सन्देश दे रही हैं। इससे पहले ही केंद्र ने राज्यों को बता दिया है कि वे क्या सतर्कता बरतें।



वहीं इस संबंध में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों के सचिवों को चिट्ठी लिखी है और उन्हें '3T+V' फॉर्मूला अपनाने को कहा है। लिखी गयी चिट्ठी में सभी राज्यों को बताया गया है कि पाबंदियों में छूट देते समय वे टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट और वैक्सीनेशन यानी 3टी प्लस वी फॉर्मूले का ध्यान रखें। राज्यों को निर्देश दिए गिए हैं कि वे कोरोना प्रोटोकॉल का ध्यान रखें, जैसे मास्क पहनने, हाथ साफ करना, सामाजिक दूरी और बंद जगहों में वेंटिलेशन के ऊपर भी काम करें। कई जगह प्रतिबंधों में ढील मिलते ही सब्जी मंडियों वगैरह में भीड़ देखी जा रही है और कोरोना नियमों का ध्यान नहीं रखा जा रहा।





आप को बता दें कि केंद्र सरकार ने राज्य सरकार से कहा कि देश में भले ही कोरोना के केस काम हो रहे हैं लेकिन इसकी वजह से जांच में काम ना लायी जाय। चूंकि, स्थिति हर पल बदल रही है, ऐसे में ऐक्टिव केसों में जरा सी बढ़त या फिर पॉजिटिविटी दर बढ़ने जैसे शुरुआती संकेतों को लेकर सचेक रहना चाहिए। अगर किसी शहर या गांव के कोरोना केसों किओ संख्या बढ़ती है तो स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी दिशानिर्देशों के आधार पर कदम उठाकर उसे स्थानीय स्तर पर ही सीमित किया जाए।


वहीं इसके अलावा  बचाव के लिए फिलहाल टीकाकरण ही एकमात्र सबसे बड़ा हथियार है। यह कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने में सबसे ज्यादा मददगार साबित है। इसी को देखते हुए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से यह कहा गया है कि वे टीकाकरण बढ़ाए, ताकि ज्यादा से ज्यादा आबादी को तेजी से टीका लगाया जा सके। वहीं केंद्र सरकार के जारी आदेश में बताया गया कि वे प्रतिबंधों में ढील जरूर दें लेकिन शर्तों के साथ और स्थिति पर पैनी नजर रखे ताकि कोरोना नियमों की जरा भी अनदेखी न हो सके।


नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें