बहुरूपिए कोरोना का अब तक का सबसे खतरनाक वेरिएंट आया सामने, हो जाएं सावधान

खतरनाक कोरोना संक्रमण ने विश्वभर में पिछले वर्ष से तबाही मचा रखी है। बार बार स्वरूप बदलने वाले इस वायरस के डेल्टा वेरिएंट ने भारत में बड़ी तबाही मचाई।
     
  • कोरोना
खतरनाक कोरोना संक्रमण ने विश्वभर में पिछले वर्ष से तबाही मचा रखी है। बार बार स्वरूप बदलने वाले इस वायरस के डेल्टा वेरिएंट ने भारत में बड़ी तबाही मचाई। जिसमें न सिर्फ बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हुए बल्कि लाखों लोगों नई अपनी जान गंवा दी। अब इसके डेल्टा वेरिएंट से भी अधिक खतरनाक दक्षिण अमेरिका में मिला इसका नया स्वरूप 'लैम्ब्डा' वेरिएंट है।


वैज्ञानिकों की मानें तो अभी इस वेरिएंट के केस पूर्वी यूरोप और एशिया के क्षेत्र में नहीं मिले हैं। लेकिन फिर भी इसे लेकर पूरी मॉनिटरिंग और सतर्कता बरतनी शुरू कर दी गई है। ICMR और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक, कोरोना की जो वैक्सीन दी जा रही है वह किसी भी घातक स्वरूप से निपटने के लिए सक्षम है। फिलहाल डरने की कोई बात नहीं है, लेकिन अगले कुछ महीनों तक पूरी टीम को बहुत ज्यादा अलर्ट रहना होगा।


ICMR के एक वरिष्ठ वैज्ञानिक के मुताबिक, कोरोना के बदलते स्वरूप और उसके जीनोम को डिकोड करने के लिए लगातार देश के कई संस्थान दिन-रात शोध कर रहे हैं। अभी तक भारत में उन्हें कोरोना के इस बदले हुए स्वरूप के बारे में कोई भी केस नहीं मिला है। भारत में तबाही मचाने वाले डेल्टा वेरिएंट के भी कई स्वरूप सामने आए हैं, लेकिन दक्षिण-अमेरिका में वायरस के बदले स्वरूप ''लैम्ब्डा'' को लेकर और ज्यादा सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। 


वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी वायरस के इस नए स्वरूप को लेकर चिंता जाहिर की है। पूरी दुनिया में अब तक 29 देशों में इस बदले हुए स्वरूप ने सबसे ज्यादा तबाही मचानी शुरू कर दी है। नेशनल कोविड टास्क फोर्स के डॉक्टर एन.के अरोड़ा कहते हैं कि, कोविड की वैक्सीन कोरोना के बदलते हुए किसी भी स्वरूप में कारगर है। इसलिए वैक्सीन को लेकर किसी भी प्रकार का कोई संशय किसी भी बदले वेरिएंट के दौरान नहीं करना चाहिए। हालांकि हमारे वैज्ञानिक लगातार कोरोना के बदलते हुए स्वरूप और उससे जुड़े हुए सभी पहलुओं पर लगातार नजर बनाए रहते हैं।



 
नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें