तीरथ सिंह को हटा पुष्कर सिंह धामी को CM बनाकर BJP ने चुनाव के पहले क्यों खेला आखिरी दांव?

उत्तराखंड में भाजपा नेतृत्व ने पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री बनाकर अपना आखिरी चुनावी दांव खेल दिया है।
     
  • राज्य
उत्तराखंड में 6 महीने बाद होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा नेतृत्व ने तीरथ सिंह रावत की जगह पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री बनाकर अपना आखिरी चुनावी दांव खेल दिया है। रावत को उपचुनाव न हो पाने के जिस कारण से हटाया गया है, दरअसल पार्टी ने उसके लिए कोई प्रयास ही नहीं किए। उसे आशंका थी कि कहीं तीरथ सिंह चुनाव न हार जाएं। चुनावी साल में तीरथ सिंह रावत के विवादित बयान, उनका ढीला ढाला रवैया और सरकार पर मजबूत पकड़ न होना भी नेतृत्व परिवर्तन की एक बड़ी वजह रही। माना जा रहा है कि भाजपा के इस दांव से विपक्षी दलों का गणित गड़बड़ा सकता है।



विवादित बयान और ढीले-ढाले रवैये से गयी तीरथ सिंह की कुर्सी 

भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने इस साल की शुरुआत में उत्तराखंड को लेकर जो रणनीति बनाई थी, उसमें पार्टी के भीतर असंतोष के चलते त्रिवेंद्र सिंह रावत को हटाना जरूरी समझा गया, और उनके विकल्प के तौर पर लाए गए तीरथ सिंह रावत बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व की उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पा रहे थे, यही वजह है कि चार महीने के भीतर तीरथ सिंह रावत को अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी। चूंकि रावत को सरकार चलाने का ज्यादा मौका ही नहीं मिला। इस दौरान वे कुंभ और कोरोना से जूझते रहे, ऐसे में उनके कामकाज को लेकर तो कोई सवाल ही खड़े नहीं हुए, बल्कि उनके अपने विवादित बयान और ढीला ढाला रवैया उनकी विदाई के लिए ज्यादा जिम्मेदार रहा।



मई के पहले सप्ताह में जब पांच राज्यो के विधानसभा चुनाव के नतीजे आए तब भाजपा ने फिर से अपनी भावी चुनावी तैयारियों की समीक्षा की। इसमें उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड दोनों को शामिल किया गया। तीरथ सिंह के विवादित बयानो और ढीला ढाला रवैया देखकर उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन को जरूरी समझा गया और उसके लिए पार्टी नेतृत्व में नए नेता की तलाश शुरू कर दी। इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में भी नई टीम आ गई थी और उसकी सलाह के बाद पुष्कर सिंह धामी का नाम उभरा। हालांकि, धामी को सरकार का अनुभव नहीं है, क्योंकि वह अभी तक मंत्री ही नहीं बने। दूसरी बार के विधायक बने धामी को सड़क पर उतरकर आक्रामक तेवरों के लिए जाना जाता है। पार्टी को आने वाले छह महीनों में चुनाव के दौरान उनके ऐसे ही तेवर की जरूरत है।



संघ की सहमति से धामी का चयन 

सूत्रों के अनुसार, पुष्कर सिंह धामी के चयन में संघ के एक बड़े नेता की सहमति भी इसमें महत्वपूर्ण रही है। धामी के राजनीतिक गुरु माने जाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी का राज्य में अपना एक अलग प्रभाव है और इसका लाभ भी धामी को मिल सकता है। हालांकि, भाजपा के भीतर की गुटबाजी उनके लिए दिक्कतें पैदा कर सकती है। एक तो उनकी सरकार में उनसे वरिष्ठ मंत्री होंगे और दूसरा संगठन में भी काफी वरिष्ठ लोगों से उनको समन्वय बनाना पड़ेगा। ऐसे में उनको बार-बार केंद्रीय नेतृत्व की मदद की जरूरत पड़ सकती है।



जानकारों के अनुसार, तीरथ सिंह रावत पार्टी के निर्देश मानने और विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए पूरी तरह तैयार थे, लेकिन केंद्रीय नेतृत्व को यह आशंका थी कि कहीं वह चुनाव न हार जाएं, जिससे कि पूरे विधानसभा चुनाव की रणनीति बिगड़ सकती है। कहीं न कहीं तीरथ सिंह रावत खुद भी पूरी तरह आश्वस्त नहीं थे। पार्टी नेतृत्व को इस बात का भी डर था कि चुनाव के दौरान तीरथ सिंह रावत का कोई अटपटा बयान देकर नई मुसीबत न खड़ी कर दें। इसके पहले भी वह अपने बयानों से ज्यादा चर्चा में रहे।


नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें